प्रेस विज्ञप्ति

29 मई 2020
29-05-2020
 29 मई 2020

  • चंडीगढ़, 29 मई- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज पंचकूला में पोर्टेबल इलैक्टोंनिक वेईंग मशीन के डैमो का अवलोकन किया। उन्होंने मशीन के माध्यम स्वंय लोडिंग एवं अनलोडिंग कई गाडिय़ों का वजन करवाया और निरीक्षण किया।
  • इस अवसर पर प्रधान सचिव अनुराग रस्तोगी, पुलिस आयुक्त सौैरभ सिंह, उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा, पुुलिस उपायुक्त मोहित हांडा, सचिव क्षेत्रीय परिवहन एवं अतिरिक्त उपायुक्त मनिता मलिक, एसडीएम धीरज चहल, एसडीएम कालका राकेश संधु सहित कई प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।
  • मुख्यमंत्री ने लोडिंग की गई गाडिय़ों के वजन का बारिकी से निरीक्षण किया औ उसके बाद तीन गाडिय़ों को सामान्य धर्मकांटा पर भेजकर वजन करवाया। उन्होंने खाली गाडिय़ो का भी वजन करवाया और उनका आर सी में लिखे वजन से मिलान किया। उन्होंने काफिले की गाडियों का वजन भी चैक किया।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पोर्टेबल इलैक्ट्रोनिक वेईंग मशीन से वजन करवाकर आंकड़े एकत्र किए जा रहे है जो वास्तविक आंकड़ों से मेल किए जाएगें। यदि इनका उपयोग सही रहा और आंकडें ठीक हुए तो यह प्रदेश के लिए बहुत ही लाभदायक साबित होगा। यह पोर्टेबल मशीन कहीं भी आसानी से ले जाई जा सकेगी और सडक़ के बीच रखकर लोडिंग एवं अनलोडिंग वाहनों के वजन आसानी से किए जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि इस मशीन से 200 टन तक लोडिंग गाडिय़ों का वजन किया जा सकता है।
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के कई एनसीआर जिलों में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलना चिंता का विषय है फिर भी हरियाणा सरकार कोरोना को लेकर पूरी सक्रियता से कार्य कर रही है। प्रदेशवासियों को बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा आवश्यक कदम उठाए जा रहे है ओर निगरानी की जा रही है। कई जिलों में कोरोना टैस्टिंग की सुविधाएं एवं अन्य आवश्यक उपकरण बढाए गए है। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए लोगों को इस महामारी से बचना है। इसके अलावा मास्क का प्रयोग करना भी अनिवार्य है।
     
  • चंडीगढ़, 29 मई- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा है कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते राज्य सरकार द्वारा प्रदेश से इच्छुक श्रमिकों को उनके गृह राज्यों में पहुंचाने के लिए रोजाना विशेष श्रमिक रेलगाडिय़ों को प्रदेश के विभिन्न रेलवे स्टेशनों से चलाया जा रहा है और इसी श्रृंखला में आज हरियाणा से 6 विशेष श्रमिक रेलगाडिय़ों को भेजा गया है। इसी तरह, हरियाणा के पड़ौसी राज्यों के रहने वाले श्रमिकों को भी बसों के माध्यम से उनके गृृह राज्यों में भिजवाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि हरियाणा राज्य की उन्नति व विकास में श्रमिकों का उल्लेखनीय योगदान है।
  • उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार ने इन श्रमिकों की परेशानियों को समझते हुए उन्हें नि:शुल्क उनके गृह राज्य पहुंचाने की व्यवस्था की है। अपने गृह राज्यों में जाने के इच्छुक श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने की श्रृंखला के तहत आज रोहतक, फरीदाबाद, अंबाला और पानीपत से 6 विशेष श्रमिक रेलगाडिय़ों के माध्यम से 8600 से अधिक श्रमिकों को उनके गृह राज्य बिहार के लिए रवाना किया गया है।
  • आज अंबाला से 1676 श्रमिकों को कटिहार (बिहार), रोहतक से 2510 श्रमिकों को कटिहार व भागलपुर (बिहार), फरीदाबाद से 2833 श्रमिकों को भागलपुर व पूर्णिया (बिहार) और पानीपत से 1600 श्रमिकों को अररिया (बिहार) के लिए रवाना किया गया है।
  • --अंबाला से कटिहार (बिहार) के लिए रेलगाड़ी--
  • आज अम्बाला छावनी रेलवे स्टेशन से स्पेशल ट्रेन के माध्यम से 1676 श्रमिकों को कटिहार (बिहार) भेजने का काम किया गया। इसके अलावा, श्रमिकों के साथ 22 बच्चे भी भेजे गये हैं। इन श्रमिकों में कटिहार जिले के साथ-साथ सहरसा, मधेपुरा, सुपौल, अररिया, पूर्णिया के श्रमिक शामिल हैं। इन श्रमिकों में अम्बाला जिले के 185, कुरूक्षेत्र के 450, करनाल के 450, सिरसा के 150, जीन्द के 62, यमुनानगर के 100, कैथल 100, हिसार के 179 श्रमिक शामिल हैं। यह ट्रेन अम्बाला से चलकर वाया सहारनपुर होते हुए कटिहार पहुंचेगी।
  • --रोहतक से कटिहार व भागलपुर (बिहार) के लिए रेलगाड़ी--
  • रोहतक रेलवे स्टेशन से आज दो विशेष श्रमिक रेलगाडिय़ों को बिहार के भागलपुर व कटिहार के लिए रवाना किया गया है। भागलपुर जाने वाली रेलगाड़ी में 1600 श्रमिक व कटिहार जाने वाले रेलगाड़ी में 910 श्रमिकों को भेजा गया है। भागलपुर जाने वाले रेलगाड़ी में रोहतक, झज्जर एवं चरखी दादरी से एकत्रित किए गए श्रमिकों को भेजा गया है जबकि कटिहार जाने वाली रेलगाड़ी में रोहतक, भिवानी व झज्जर से लाए गए श्रमिकों को भेजा गया है।
  • --फरीदाबाद से भागलपुर व पूर्णिया (बिहार) के लिए दो रेलगाडिय़ां--
  • ओल्ड फरीदाबाद से आज दो ट्रेन रवाना की गई। पहली ट्रेन पूर्णिया, (बिहार) भेजी गई, जिसमें करीब 1383 यात्री थे तथा दूसरी ट्रेन भागलपुर (बिहार) भेजी गई जिसमें करीब 1450 यात्री थे। ई-दिशा पोर्टल पर पंजीकरण करने वाले लोगों को भेजने की प्रक्रिया जारी है। सबसे पहले श्रमिकों को उनके गृह राज्य भेजने के लिए फोन से सूचना भेजी गई तथा उन्हें नजदीक के शैल्टर होम में इक्_ा किया गया, जहां पर सभी की मेडिकल जांच की गई। इन श्रमिकों/लोगों का आह्वान किया गया कि परिस्थितियां सामान्य होने पर वे फिर से औद्योगिक नगरी फरीदाबाद आएं तथा देश-प्रदेश के विकास में अपना सहयोग करें।
  • --पानीपत से अररिया (बिहार) के लिए रेलगाडी--
  • पानीपत जंक्शन से अररिया (बिहार) के लिए 1600 मजदूरों को भेजा गया। इनमें 400 मजदूर सोनीपत से और 1200 मजदूर जिला झज्जर से हरियाणा रोडवेज की बसों के माध्यम से पानीपत लाए गए थे। इन सभी को यहां लाने के बाद ट्रेन के माध्यम से बिहार के विभिन्न जिलों में भेजा गया है।
  • --श्रमिकों को मुहैया करवाई गई सुविधाएं--
  • मजदूरों को शैल्टर होम से रोडवेज की बसों के माध्यम से रेलवे स्टेशन तक लाया गया। मजदूरों को उनके गृह प्रदेश रवाना करने से पूर्व सभी जरूरी इंतजाम किए गए। जहां एक तरफ रेलवे प्लेटफार्म को वैक्यूम क्लीनर मशीन से बार-बार साफ किया जा रहा था, तो वहीं दूसरी ओर रेलगाड़ी के साथ-साथ प्रत्येक श्रमिक के हाथों को भी सैनिटाइज किया गया तथा उनके लिए भोजन व पीने के पानी की व्यवस्था भी की गई। इन श्रमिकों को निशुल्क ट्रेन की टिकट के साथ-साथ अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई गई है, ताकि रास्तें में श्रमिकों को किसी परेशानी का सामना न करना पड़ें। ट्रेन की प्रत्येक बोगी में श्रमिक सामाजिक दूरी के साथ बिठाएं गए थे।
  • --मास्क पहनें असामाजिक तत्वों पर पुलिस की कड़ी निगरानी--
  • रोहतक के पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मास्क पहनकर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने की फिराक में घूम रहे असामाजिक तत्वों के मंसूबों को विफल करने के लिए पुलिस द्वारा इन पर निरंतर निगरानी की जा रही है।
  • उन्होंने कहा कि पब्लिक डिलिंग व पैसे के लेन-देन से संबंधित स्थलों पर विशेष निगरानी की जा रही है तथा फोटोग्राफी भी करवाई जा रही है ताकि असामाजिक तत्वों के मंसूबों को असफल किया जा सके। पुलिस द्वारा लॉकडाउन को सख्ती से लागू करवाया जा रहा है तथा सुरक्षा के भी व्यापक प्रबंध किए गए हैं।
  • --श्रमिकों के चेहरों पर दिखाई दी घर जाने की खुशी--
  • श्रमिक सोमदास, अरूण ने बताया कि आज उन्हें बहुत खुशी महसूस हो रही हैं कि वे अपने घर जा रहे हैं, हम तो अपने घर जाने की उम्मीद छोड़ बैठे थे। राज्य सरकार ने संकट की इस घड़ी में उन्हें घर भेजने की जो व्यवस्था की है उसके लिए वे सरकार का दिल से आभार व्यक्त करते हैं। पूर्ण श्रीवास्तव, निहाल जोगी, धर्मवीर रस्तोगी, अशोक कुमार ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए बताया कि वे आज बहुत खुश हैं तथा राज्य सरकार ने उन्हे नि:शुल्क भेजने का जो कार्य किया हैं उसके लिए वे उनका धन्यवाद करते हैं।
  • बहादुरगढ़ में जूतों की कम्पनी में काम करने वाले सागर ने बताया कि लॉकडाउन के कारण वे अपने घर जा रहे हैं और लॉकडाउन समाप्त होने के बाद वे वापिस आएंगे। रैकसीन बनाने वाली कम्पनी में काम करने वाले राहुल ठाकुर और रविन्द्र कुमार ने भी घर पर जाने की व्यवस्था करने के लिए राज्य सरकार का आभार जताया। इसी तरह, खल-बिनौला के मील में काम करने वाले ओमप्रकाश और सोनीपत-राई के फास्ट फूड में काम करने वाले शुभम ने बताया कि वे एक बार घर जाकर लॉकडाउन खत्म होने के बाद वापिस काम पर लौटेंगे।
     
  • चंडीगढ़, 29 मई- हरियाणा पर्यटन निगम द्वारा वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान कोविड पीडि़तों की निष्काम सेवा कर रहे डॉक्टरों और अर्ध-चिकित्सीय स्टाफ को अपने पर्यटक परिसरों में ठहरने एवं भोजन आदि की नि:शुल्क सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है।
  • एक सरकारी प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि इस आशय के एक प्रस्ताव को मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने घटनोत्तर स्वीकृति प्रदान कर दी है।
  • उन्होंने बताया कि कोविड-19 के मद्देनजर 24 मार्च,2020 से लगाए गए लॉकडाउन के दौरान सरकार ने निर्णय लिया था कि कोविड पीडि़तों का उपचार कर रहे डॉक्टरों को पर्यटक परिसरों में नि:शुल्क ठहराया जाएगा।
  • उन्होंने बताया कि लॉकडाउन अवधि में शून्य के बराबर राजस्व प्राप्ति और वर्ष 2017-18 में 13.95 करोड़ रुपये का घाटा जो वर्ष 2018-19 में कम होकर 2.04 करोड़ रुपये रह गया है, के बावजूद भी कोविड के इस संकट के दौरान पर्यटन निगम इन कोविड योद्घाओं के प्रति अपनी एकजुटता दिखाते हुए उन्हें यह सेवा उपलब्ध करवा रहा है।