उपलब्धिया

गरीब कल्याण
गरीब कल्याण

  • कोविड-19 महामारी के दौरान सरकार ने गरीबों की मदद के लिए 1200 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा।
  • ‘मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना’ के तहत 6,23,108 परिवारों को 4 हजार रुपये प्रति परिवार की दर से 211.62 करोड़ रुपये की सहायता।
  • गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन कर रहे 4,67,604 परिवारों को प्रति सप्ताह 1000 रुपये की दर से कुल 214.49 करोड़ रुपये की राशि जारी।
  • असंगठित 69,000 मजदूरों 1000 प्रति सप्ताह की दर से 34.74 करोड़ रुपये की राशि जारी।
  • ‘अंत्योदय अन्न योजना’, बीपीएल, और अन्य गरीब परिवारों को अप्रैल, मई व जून तीन मास के लिए 154 करोड़ रुपये की राशि से मुफ्त राषन।
  • इस योजना के तहत लगभग 27 लाख परिवारों के 1.20 करोड़ सदस्यों को 58,062 मीट्रिक टन गेहूं तथा 2,512 मीट्रिक टन दाल का वितरण।
  • ‘अंत्योदय अन्न योजना’ के परिवारों को 35 किलो गेहूं, 2 लीटर सरसों का तेल, 1 किलो चीनी, 1 किलो दाल और 1 किलो नमक प्रदान किया।
  • बीपीएल परिवारों को प्रति व्यक्ति 5 किलो गेहूं, प्रति परिवार 2 लीटर सरसों का तेल, 1 किलो चीनी और 1 किलो नमक प्रदान किया।
  • कोरोना महामारी के तहत लाॅकडाउन की वजह से प्रदेश में फंसे प्रवासी मजदूरों व प्रदेश के गरीब परिवार, जिनका अभी तक राशन कार्ड नही बना है, ऐसे 4.86 लाख परिवारों के लगभग 13 लाख सदस्यों को Distress Ration Token जारी करके मई व जून 2020 मास का राशन 5 किलोग्राम प्रति व्यक्ति गेहूं तथा एक किलो दाल प्रति परिवार प्रतिमास मुफ्त दिया।
  • हरियाणा भवन एवं निर्माण श्रमिक बोर्ड के तहत पंजीकृत 3,50,621 श्रमिकों को 1000 रुपये साप्ताहिक के हिसाब से पांच साप्ताहिक किस्तों में वित्तीय सहायता के रूप में अभी तक 175 करोड़ 31 लाख रुपये की राशि दी गई। इनकी मासिक पेंशन 2500 रुपये से बढ़ाकर 2750 रुपये की गई।
  • प्रदेश सरकार ने वर्ष 2020-21 के मनरेगा श्रमिकों के लिए 550 करोड़ रुपये मंजूर किये, जिसमें से 133 करोड़ रुपये की पहली किस्त जारी की गई।
  • मजदूरों व गरीबों के लिए 585 राहत शिविर  बनाये गये, जिनमें 91,200 मजदूरों के रहने, खाने व चिकित्सा की निःशुल्क व्यवस्था की गई।
  • गरीब व जरूरतमंद को 2,69,41,037 खाने के पैकेट उपलब्ध करवाये गये। हर सप्ताह 10,44,250 सूखे राशन के पैकेट भी दिये गये।
  • ‘महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण योजना’ के तहत मजदूरों को 1.81 करोड़ रुपये की राशि मजदूरी के रूप में दी गई।
  • ‘दीन दयाल अन्त्योदय योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन’ के तहत जरुरतमंदों को मुफ्त खाना उपल्बध करवाया।
  • प्रदेश के 3 लाख गरीब लोगों को छोटा-मोटा काम शुरू करने के लिए 15 हजार रुपये तक ऋण केवल 2 प्रतिशत ब्याज पर देने का निर्णय।
  • अन्य प्रदेशों के 3,18,411 अधिक लोगों को 90 रेलगाड़ियों व 5188 बसों के माध्यम से 7.09 करोड़ रुपये की लागत से उनके गृह राज्यों में पहुंचाया।