उपलब्धिया

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता
 सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता

  • "वृद्धावस्था सम्मान भत्ता योजना" के तहत 60 वर्ष या इससे अधिक आयु के वृद्ध व्यक्तियों की जनवरी, 2020 से भत्ता राषि 2000 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये मासिक की।
  • विधवा एवं बेसहारा महिलाओं की पेंशन जनवरी, 2020 से 2000 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये मासिक की।
  • "दिव्यांग पेंशन योजना" के तहत 18 वर्ष या इससे अधिक आयु के 60 प्रतिशत या इससे अधिक दिव्यांगता वाले व्यक्तियों की पेंशन जनवरी, 2020 से 2000 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये मासिक की।
  • "बौना भत्ता योजना" के अन्तर्गत बौना भत्ता जनवरी, 2020 से 2000 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये मासिक की।
  • "किन्नर भत्ता योजना" के अन्तर्गत भत्ता राशि जनवरी, 2020 से 2000 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये मासिक की।
  • 45 वर्श या इससे अधिक 60 वर्श की आयु तक के माता-पिता, जिनकी एक या एक से अधिक केवल लड़कियां हो और वार्षिक आय 2 लाख से अधिक न हो, को "लाडली पेंशन योजना" का लाभ दिया जाता है। इस योजना के तहत पेंशन जनवरी, 2020 से 2000 रुपये से बढ़ाकर 2250 रुपये मासिक की।
  • स्कूल न जा सकने वाले 18 वर्ष तक के दिव्यांग बच्चों को दी जा रही वित्तीय सहायता जनवरी, 2020 से 1400 रुपये से बढ़ाकर 1650 रुपये मासिक की।
  • निराश्रित बच्चों को वित्तीय सहायता योजना के अन्तर्गत बच्चे के माता-पिता/संरक्षक को, जिनकी वार्षिक आय 2 लाख रुपये से अधिक न हो, को बच्चे की 21 वर्ष की आयु पूर्ण होने तक वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। वित्तीय सहायता जनवरी, 2020 से 1100 रुपये से बढ़ाकर 1350 रुपये मासिक की।
  • "मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना" के अन्तर्गत 12 दिसम्बर, 2019 से सामुहिक विवाह करने वाले दुल्हा/दुल्हन में से कोई एक हरियाणा निवासी है, तो उसे 51,000 रुपये दिये जाने का प्रावधान किया गया है।