उपलब्धिया

स्वस्थ हरियाणा-हमारा लक्ष्य
स्वस्थ हरियाणा-हमारा लक्ष्य

  • प्रदेश में कोरोना मरीजों का मुफ्त इलाज।
  • चिकित्सा मदद व कोरोना सम्बन्धी जानकारी देने के लिए पचंकूला व फरीदाबाद जिलों हेतु हैल्पलाइन नम्बर 8558893911 और अन्य जिलों के लिए 1075 बनाए गये हैं। इसके अलावा, एम्बूलैंस सेवाओं के लिए हैल्पलाइन नम्बर 108 है।
  • सरकार ने वित्तीय सहायता के लिए भी हैल्पलाइन नम्बर बनाए हैं। गुरुग्राम और फरीदाबाद जिलों के लिए हैल्पलाइन नम्बर 1800180622 है तथा शेष हरियाणा के लिए 1100 है।
  • कोविड-19 आईसोलेशन वार्ड, आई0सी0यू0, लैब इत्यादि में काम कर रहे सभी सरकारी व निजी डाॅक्टरों को 50 लाख रुपये, नर्सों को 30 लाख रुपये, पैरा-मैडिकल स्टाॅफ को 20 लाख रुपये तथा चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को 10 लाख रुपये का एक्सग्रेशिया कवर।
  • सभी जिला अस्पतालों व मेडिकल काॅलेजों में 2 डायलिसिस मशीनें कोविड-19 पीड़ितों के लिए आरक्षित।
  • कोविड-19 टेस्ट के लिए प्रदेश में 14 टेस्टिंग लैबोरेटरी, जिनमें 9 सरकारी तथा 5 प्राइवेट लैबोरेटरी शामिल।
  • सभी 11 सरकारी/सहायता प्राप्त मेडिकल काॅलेज तथा 40 अन्य मेडिकल काॅलेज व अस्पताल विशेष तौर पर कोविड-19 के लिए चुने गए।
  • सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त व निजी मेडिकल काॅलेजों में 25 प्रतिशत बैड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित।
  • कोरोना मरीजों के लिए 601 सरकारी व निजी अस्पतालों में 34,876 आइसोलेशन बैड का प्रबंध।
  • कोरोना से लड़ रहे डाक्टरों, नर्सों, पैरा मेडिकल स्टाॅफ और अन्य स्टाॅफ का वेतन दोगुणा किया।
  • 447 नए डॉक्टर मेडिकल ऑफिसर के रूप में नियुक्त।
  • चिकित्सा और पैरा-मेडिकल स्टाॅफ को एक्सटेंशन।
  • राज्य के पर्यटन व लोक निर्माण विभाग (भवन एवं सड़कें) के सभी विश्राम गृहों में स्वास्थ्य सेवाओं में लगे कर्मियों के ठहरने का निःशुल्क प्रबंध।
  • सामान्य मरीजों के लिए 400 मोबाइल डिस्पेंसरी कार्यरत।
  • कोविड-19 से सम्बंधित सभी जानकरियों के लिए “हरियाणा सहायक” नामक Mobile App शुरू।
  • बच्चों और अभिभावकों की टेली-काउंसलिंग (भावनात्मक एवं मनावैज्ञानिक समस्याओं) के लिए 15 जिलों में उम्मीद केंद्र खोले।
  • 1.80 लाख रुपये से कम आय व 5 एकड़ से कम भूमि जोत वाले परिवारों को आयुष्मान भारत योजना के तहत निःशुल्क उच्च स्तरीय चिकित्सा सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। इस योजना के तहत अब तक 1,11,226 मरीजों का 146.29 करोड़ रुपये का निःशुल्क इलाज किया गया।
  • मैडिकल तथा डैंटल काॅलेजों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में आगामी शैक्षणिक स्तर से आरक्षण नीति लागू करने का निर्णय। ई.डब्ल्यू.एस के प्रार्थियों को भी मिलेगा 10 प्रतिशत आरक्षण।
  • औद्योगिक क्षेत्र करनाल, तरावड़ी (करनाल), कैथल, कुरुक्षेत्र, नूंह, नारायणगढ़ (अम्बाला), औद्योगिक क्षेत्र रोहतक व चरखी दादरी में नई ई.एस.आई डिस्पेंसरी खोलने का निर्णय।
  • बहादुरगढ़ (झज्जर) व बावल (रेवाड़ी) में 100-100 बिस्तरीय ई.एस.आई अस्पताल के लिए भवन का निर्माण करवाने का निर्णय।